Tuesday ,20-Nov-18 ,
- 860211211      - padamparag@gmail.com
ताज़ा खबर

बच्चों का पटाखे जलाते समय रखें ध्यान

padamparag.in

दीपावली का त्यौहार का गया है और इसमें बच्चे पटाखे जलाने को लेकर उत्साहित रहते हैं। दीपावली का मतलब बच्चों के लिए पटाखे जलाना और मिठाइयां खाना है। बच्चे की खुशी पटाखे जलाते समय देखते ही बनती है पर इस दौरान अभिभावकों को सावधानी भी ध्यान रखना चाहिये क्योंकि आपकी थोड़ी सी लापरवाही त्यौहारों का मज़ा किरकिरा कर सकती है। आम तौर पर पटाखे जलाते समय अगर सावधानी रखी जाये तो हादसों से काफी हद तक बचा जा सकता है। देखा गया है कि लगभग 98 प्रतिशत हादसे असावधानी के कारण होते हैं। थोड़ी सी सावधानी बरतकर पैरों, हाथों और चेहरे पर होने वाले इन घावों से बचा जा सकता है। अगर आप सतर्क हैं, तो आप समस्याओं से आसानी से बच सकते हैं, इसके लिए सतर्कता अपनायें और अपनी दीपावली को सुरक्षित और सम्पन्न बनायें। प्राथमिक चिकित्सा का इंतजाम रखें प्राथमिक चिकित्सा के तरीके और कुछ सामान्य बातों की जानकारी सभी को होनी चाहिए। अगर आपके कपड़ों मे आग लग गयी है, तो दौड़ें नहीं, बल्कि रूक जायें। आग बुझाने के लिए ज़मीने पर लुढ़कें। अधिक ढ़ीले-ढाले कपड़े न पहनें। जले हुए स्थान पर पानी डालें, अच्छा होगा आप बहते हुए पानी का प्रयोग करें। जले हुए स्थान पर बर्फ ना रखें, ना ही घी लगायें क्योंकि इससे संक्रमण बढ़ सकता है। फर्स्ट एड बॉक्स रखें तैयार अगर पिछले कुछ साल के रेकॉर्ड उठाकर देखें, तो दिवाली पर जितनी भी दुर्घटनाएं हुई हैं, उनमें 98 फीसदी महिलाओं व 18 साल से कम उम्र के बच्चों के साथ हुई हैं। वैसे भी दिवाली पर किसी भी तरह की दुर्घटना हो सकती है। ऐसे में आप फर्स्ट एड बॉक्स घर पर ही तैयार रखें। निर्देश पढ़कर ही जलाएं पटाखे जो पटाखे आपको जलाना नहीं आता, उन्हें खरीदिए भी मत या फिर पैकेट पर सारे तरीक अच्छी तरह पढ़ने के बाद ही उन्हें जलाएं। पटाखों का एक अलग डिब्बा बना लें। एक बात का ध्यान रखें कि डिब्बे में रखकर पटाखे बिलकुल न जलाएं. खुली जगह पर करें आतिशबाजी पटाखे छोड़ने से पहले खुली जगह तलाश लें। आप घर या बाहर, जहां भी पटाखे जला रहे हों, ध्यान रखें कि उसके आसपास आसानी से जलने वाली कोई चीज मसलन पेट्रोल, डीजल, केरोसिन या गैस सिलिंडर वगैरह न रखा हो। बच्चों पर दें खास ध्यान पटाखे जलाते समय बच्चों के साथ रहें और उन्हें पटाखे चलाने का सुरक्षित तरीका बताएं। छोटे बच्चों को पटाखे न जलाने दें। पांच साल से छोटे बच्चों को तो फुलझड़ी भी न जलाने दें। मोमबत्ती का करें इस्तेमाल पटाखे जलाने के लिए मोमबत्ती या लंबी लकड़ी का इस्तेमाल करें। माचिस से आग लगाना खतरनाक हो सकता है। एक बार में एक ही पटाखा जलाएं। एक साथ कई पटाखे छोड़ने की हालत में आपका ध्यान बंट सकता है और यही लापरवाही हादसे की वजह बन जाती है। पटाखे जलाते समय पास में एक बाल्टी पानी और दवा भी रखें।

Related Posts you may like