Sunday ,20-Jan-19 ,
- 860211211      - padamparag@gmail.com
ताज़ा खबर

पुलिस के डायल-100 से अपराधों में आई कमी

padamparag.in

इन्दौर | उच्च न्यायालय खण्डपीठ इंदौर, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण एवं तहसील विधिक सेवा समिति डॉ. अम्बेडकर नगर महू के संयुक्त तत्वावधान में एक वृहद विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन किया गया। प्रशासनिक न्यायाधिपति एवं को-चेयरमेन उच्च न्यायालय विधिक सेवा समिति इंदौर श्री एस.सी.शर्मा के निर्देश में एवं पिं्रसिपल रजिस्ट्रार/सचिव उच्च न्यायालय विधिक सेवा समिति श्री अनिल वर्मा की अध्यक्षता में गत दिवस ग्राम मानपुर में विधिक साक्षरता शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में सम्बोधित करते हुये श्री अनिल वर्मा ने बताया कि विधि एक ऐसा विषय है, जिसकी आवश्यकता व्यक्ति को उसके जन्म से लेकर मृत्यु तक पड़ती है। विधि का ज्ञान सबको होना चाहिये, विधिक सेवा प्राधिकरण समय-समय पर विभिन्न शिविरों के माध्यम से लोगों में कानूनी जागरूकता फैलाने का कार्य कर रहा है। कानून के ज्ञान के अभाव में और लोगों में नैतिक पतन होने के कारण समाज में अपराध बढ़ रहे हैं। श्री वर्मा ने लोक अदालत के माध्यम से अधिक से अधिक प्रकरणों का निराकरण कराने हेतु आह्वान किया। लोक अदालत के माध्यम से जो भी प्रकरण निपटते हैं, उससे पक्षकारों के मध्य आपसी बैर खत्म होता है और भाईचारा बढ़ता है। पक्षकार मध्यस्थता प्रक्रिया का लाभ लेकर भी अपने प्रकरणों में निपटारा करा सकते हैं। कोई भी व्यक्ति न्याय पाने से वंचित न हो, यही उद्देश्य लेकर उच्च न्यायालय विधिक सेवा समिति और जिला विधिक सेवा प्राधिकरण कार्य कर रहे हैं। अपर जिला न्यायाधीश एवं सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण श्री वैभव मण्डलोई ने राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकरण एवं राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण जबलपुर द्वारा चलाई जा रही विभिन्न योजनाओं जैसे बच्चों के साथ मैत्रीपूर्ण संबंध, आपदा पीड़ितों की सहायता, असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को कानूनी सहायता, और पैरालीगल वॉलेंटियर्स योजना की जानकारी देते हुये बताया कि देश में विधि का शासन है, उन्होंने बाल विवाह निषेध अधिनियम एवं शिक्षा के अधिकार की जानकारी दी । अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक श्री नागेन्द्र सिंह ने महिलाओं और बच्चों के अधिकार के बारे में बताया और इसके लिये शासन द्वारा स्थापित हेल्पलाइन नम्बर 1090 और 1098 के बारे में जानकारी दी। पुलिस द्वारा चलाई जा रही डायल 100 सेवा से अपराधों मे कमी आई है। इस सेवा का नागरिकों को लाभ उठाने का उन्होंने आह्वान किया। जिला विधिक सहायता अधिकारी श्री सुभाष चौधरी ने विधिक सहायता योजना की जानकारी देते हुये लोगों को कौन-कौन विधिक सहायता के पात्र है, के बारे में जानकारी दी। लोगों को कानूनी जानकारी दिये जाने हेतु समय-समय पर विधिक सेवा प्राधिकरण शिविरों का आयोजन करता रहता है। कार्यक्रम की रूपरेखा के बारे में तहसील न्यायालय में पदस्थ न्यायाधीश श्री अग्नीन्द्र द्विवेदी ने जानकारी दी। संचालन सीडीपीओ श्री आर.के. तिवारी एवं आभार प्रदर्शन श्री विकास मिश्रा अपर जिला न्यायाधीश ने किया। कार्यक्रम में विभिन्न योजनाओं के पैम्पलेट वितरित कराये गये। इस अवसर पर तहसील न्यायालय में पदस्थ न्यायाधीशगण, अवर सचिव श्री अरूण प्रधान, विभिन्न विभागों के अधिकारीगण, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता एवं नागरिकगण उपस्थित हुये।

Related Posts you may like