Thursday ,21-Mar-19 ,
- 860211211      - padamparag@gmail.com
ताज़ा खबर

रुबेला-मीजल्स टीकाकरण अभियान 15 जनवरी से

padamparag.in

भोपाल | प्रदेश के 9 माह से 15 वर्ष तक के बच्चों को मीजल्स और घातक बीमारियों से बचाने के लिये प्रदेश में 15 जनवरी से रुबेला-मीजल्स टीकाकरण (एमआर वैक्सीन) अभियान चलाया जायेगा। कलेक्टर डॉ. सुदाम खाडे ने बच्चों का भविष्य और स्वास्थ सुरक्षित करने के लिये माता-पिता से आग्रह किया गया है कि वे नजदीक के स्वास्थ्य केन्द्र में सम्पर्क करें। अभियान में 9 से 15 वर्ष आयु के बालक-बालिकाओं को दाएँ बाजू में पीड़ारहित टीका लगाकर जानलेवा बीमारियों से बचाया जायेगा। रुबेला वायरस के संक्रमण से महिलाएँ बार-बार गर्भपात का शिकार होती हैं। यदि ये महिलाएँ गर्भवती हो भी जाती हैं, तो वे या तो मृत शिशु को जन्म देती हैं या गर्भस्थ शिशु अविकसित, कुछ न कुछ शारीरिक दोष जैसे दिल में छेद, शरीर का कोई भाग न होना या मानसिक अथवा शारीरिक रूप से बाधक होना होता है। शिशु के साथ माता-पिता का भी जीवन कष्टदायक हो जाता है। जिस बच्चे को बड़े होकर माता-पिता का सहारा बनना होता है, वही जीवनभर के लिये माता-पिता पर आश्रित हो जाता है। मीजल्स या खसरा भी घातक बीमारी है। मीजल्स स्वयं इतना खतरनाक नहीं है, जितने इसके दुष्परिणाम जैसे अंधापन, मस्तिष्क में सूजन, निमोनिया और डायरिया। पीड़ित बच्चा कुपोषण का शिकार हो जाता है। कई बार बच्चे की मृत्यु तक हो जाती है। पूरे विश्व में मीजल्स से होने वाली 30 प्रतिशत बाल मृत्यु भारत में होती है। इन दोनों घातक बीमारियों को एम.आर. वैक्सीन (मीजल्स-रुबेला टीका) से रोका जा सकता है। अभियान के लिये प्रदेश में जिलेवार प्रशिक्षण दिया जा रहा है। ब्लॉक मेडिकल ऑफीसर को शत-प्रतिशत टीकाकरण के लिये संकल्प दिलाया जा रहा है।

Related Posts you may like