Sunday ,20-Jan-19 ,
- 860211211      - padamparag@gmail.com
ताज़ा खबर

मॉडल स्कूल के बाद अब नगर के महाविद्यालय के स्टाफ आये आंधी बच्चियों की मदद के लिए आगे

padamparag.in

तेन्दूखेड़ा! जनपद पंचायत के आने वाली ग्राम पंचायत धनगौर में एक रजक परिवार के घर तीन वर्ष में जो बच्चियों ने जन्म लिया और जन्म से ही अंधी होने के कारण माता पिता परेशान थे और मजबूर भी जो बच्चियों की ठीक से देखरेख नहीं कर पा रहे थे इसी बीच इसकी जानकारी देशबंधु को लगी और अंधी बच्चियों की मदद के लिए एक खबर का प्रशारण किया जिसके बाद नगर के दर्जनों लोगों ने बच्चियों की मदद के लिए आगे आकर हाथ बताने की सोच बताई और आज उन बच्चियों को दो जगह से मदद के लिए राशि खाने के लिए नमकीन बिस्कुट के साथ नये कपडे भी लोगों ने उनके माता पिता को देखते हुये आगे भी मदद करने की बात कही है जिसे देख अंधी बच्चियों के माता पिता के अंदर भी एक होश देखने मिला और उन्होंने भी अब बच्चियों की परवरिश में कोई कमी न रखने की बात कहते हुए उदास चहरे पर एक नई मुस्कान दिखाई आपको बता दें कि ये दोनों बच्चियां धनगौर ग्राम की है और यह अनिल रजक की बिटिया है जो जन्म से ही अंधी पैदा हुई थी किन्तु आर्थिक स्थिति कमजोर होने के कारण माता पिता इनकी देखरेख उतनी अछि तरह से नहीं कर पा रहे थे लेकिन देशबंधु की खबर के बाद कई बडे़ लोग इन बच्चियों की मदद के लिए आगे आये हैं पूर्व में मॉडल स्कूल के प्राचार्य केएल चौकसे सहित स्कूल का पूरा स्टाफ ने भी इनकी मदद की थी जिसमें प्राचार्य ने दोनों बच्चियों को गर्म कपडे के साथ एक हजार की नगद राशि दी थी और अब आज महाविद्यालय ने इन बच्चियों के माता पिता को बुलाकर कालेज परिषद में बच्चियों को गर्म कपडे़ के साथ नमकीन और नगद राशि भी दी है ऐसे लोगों की मदद सबको करनी चाहिये मॉडल स्कूल के बाद आज नगर के शासकीय महाविद्यालय कालेज में पदस्थ प्राचार्य एस के अग्रवाल ने साथ अतिथि विद्वानों ने भी अंधी बच्चियों के साथ उनके माता पिता को कालेज में बुलाया गया जहां बच्चियों को कपडे़ खाने के लिए नमकीन बिस्कुट के साथ नगद राशि भी दी जिसमें सहयोग करने में प्राचार्य एस के अग्रवाल के साथ अतिथि विद्वानों में प्रियंका बड़कुल महेश दिलीप सिंह संध्या स्थापक भावना में सोनल नेमा राजेश्वर अनुभा तिवारी मीना राय कुमारी रुबी दुबे आकाश गोल हिना यादव भागीरथ हर्बल मनीष कुमार सुजाता नेमा रिचा लोधी विशाखा चौरसिया श्रीमती रेखा बाई श्वेता राज हुकुम के अलावा अन्य स्टाफ ने भी सहयोग के लिए राशि एकत्रित की ओर अंधी बच्चियों के माता पिता को सामग्री के साथ नगद राशि देकर बच्चियों की देखरेख करने की बात कही प्राचार्य एस के अग्रवाल ने बताया कि ऐसे लोगों की सभी को मदद करनी चाहिए आज हम लोगों ने अंधी बच्चियों के लिए जो सहयोग के लिए राशि एकत्रित की थी और उनके माता पिता को सौंपी है साथ ही आगे भी कोई सहयोग की जरूरत पडने पर उनसे संपर्क करने की बात कही है अंधी बच्चियों के पिता ने कहा कि अब बडी मेरी हिम्मत अनिल रजक के घर जन्मी दोनों बच्चिया जन्म से ही अंधी पैदा हुई थी जिसे लेकर वह काफी चिंतित था और उसने कई अधिकारियों से सहयोग के लिए मदद की गुहार लगाई थी लेकिन किसी ने भी सहयोग नहीं किया जिसके कारण वह अकेला काफी परेशान था उसने बताया वह लोगों के कपडे़ स्त्री करके अपने परिवार का भरण पोषण करता था लेकिन अंधी बच्चियों को जब देखता था तो वह कमजोर पड जाता था लेकिन जिस तरह से पहले मॉडल स्कूल के स्टाफ और आज कालेज स्टाफ ने उसकी मदद की है उससे उसकी भी हिम्मत बडी है और अब वह भी बच्चियों की पहले से ज्यादा परवरिश करेगा

Related Posts you may like