Friday ,22-Feb-19 ,
- 860211211      - padamparag@gmail.com
ताज़ा खबर

राम मंदिर के बाद चौरासी कोस, हिंदुत्व की दूसरी प्रयोगशाला

padamparag.in

फैजाबाद । भारतीय जनता पार्टी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और विश्व हिंदू परिषद ने एक बार फिर हिंदुत्व की नई प्रयोगशाला की अवधारणा पर काम शुरू कर दिया है। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर 1989 से निरंतर सत्ता की ओर बढ़ती भाजपा 2019 में राम मंदिर निर्माण नहीं करा पाने के कारण अपनी लोकप्रियता और हिंदुत्व के बीच पकड़ कमजोर हो जाने से अब एक नया प्रयोग शुरू करने जा रही है। चौरासी कोस परिक्रमा के धार्मिक स्थलों का विकास और पुनर्निर्माण का शिलान्यास करने केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी 8 फरवरी को उत्तर प्रदेश की सांस्कृतिक राजधानी अयोध्या पहुंच रहे हैं। वह यहां पर 5 परियोजनाओं की आधारशिला रखेंगे, इसके लिए बड़े पैमाने पर तैयारी की गई है। 250 किलोमीटर के दायरे में 80 स्थानों का चयन किया गया है। जहां पर आधारशिला कार्यक्रम और भाजपा की बड़ी-बड़ी सभाएं लोकसभा चुनाव के पूर्व आयोजित की जाएंगी।इसके माध्यम एक बार फिर हिन्दू ध्रुवीकरण की प्रक्रिया तेजी होगी| राम मंदिर निर्माण के स्थान पर विश्व हिंदू परिषद और संघ ने एक नई हिंदुत्व की प्रयोगशाला शुरू करने का फैसला किया है। अयोध्या और उसके आसपास लगभग 250 किलोमीटर के 84 कोसी परिक्रमा मार्ग को नए तरीके से विकसित करने और मंदिरों का पुनर्निर्माण कर अयोध्या को दुनिया भर के धार्मिक स्थलों पर नई पहचान देने का काम संघ परिवार कर रहा है। संघ परिवार 2 करोड़ की आबादी वाले 6 जिले जिनमें अंबेडकर नगर बाराबंकी, बहराइच, गोंडा बस्ती और अयोध्या के 250 किलोमीटर मार्ग को विकसित करने के लिए 1057 करोड़ रुपए का बजट केंद्र सरकार ने स्वीकृत किया गया है। नेशनल हाईवे का दर्जा देते हुए 250 किलोमीटर मार्ग को बेहतर ढंग से विकसित किया जाएगा। चौरासी कोस की परिक्रमा के प्रमुख स्थान को विकसित करने के लिए बायपास मार्ग का सौंदर्यीकरण, राम वन गमन,मार्ग का पुनः स्थापन एवं मंदिरों को नए स्वरूप में लाकर हिंदुत्व को फिर से जोड़ने की योजना संघ परिवार ने बनाई है। 8 फरवरी को इसके शिलान्यास का कार्य प्रारंभ कर संघ परिवार हिंदुत्व की दूसरी प्रयोगशाला पंचकोशी मार्ग को बनाने जा रहा है।

Related Posts you may like

प्रमुख खबरें

padamparag.com