Monday ,25-Mar-19 ,
- 860211211      - padamparag@gmail.com
ताज़ा खबर

खुद से प्यार करना है बहुत जरूरी, जानें कैसे करें ये काम

padamparag.in

खुद को प्यार करना हमारे जीवन की संजीवनी है। इसके बाद ही आप खुले दिल से किसी और को प्यार करने में सक्षम हो पाएंगी। इस वैलेंटाइन-डे पर आइए सीखें खुद से प्यार करने के गुर, बता रही हैं किरण मिश्रा एक दिन के 24 घंटे। ऑफिस व घर के काम में पूरा दिन बीत गया। रात में सोते हुए भी मन में यही गुणा-भाग कि कल क्या-क्या करना है? पर सवाल यह कि रात-दिन की इस भागदौड़ के बावजूद आप खुश क्यों नहीं हैं? इसलिए कि आपकी परवाह कोई नहीं कर रहा? बेहतर है, इससे पहले स्वयं से पूछें कि आपने खुद के लिए कितना समय निकाला? उत्तर में शायद निराशा ही हाथ लगे, क्योंकि इस सवाल का जवाब आपके पास नहीं है। होगा भी कैसे? आप तो हमेशा खुद को आखिर में ही रखती आई हैं। आपके साथ ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि आप खुद को प्यार करना नहीं जानतीं। पहले खुद से प्यार करो, यह सिर्फ कहने की बात नहीं है, सभी लाइफकोच इसे खुशहाल जिंदगी जीने का एक बेहद खूबसूरत रास्ता मानते हैं। Tips: बच्चे को चैन भरी नींद देने के लिए अपनाएं ये आसान टिप्स प्यार पाने के लिए खुद से प्यार मुझसे लोग प्यार नहीं करते, क्योंकि मैं सुंदर नहीं दिखती। मेरा रंग काला है... इस तरह की बातों से हमेशा खुद को कम आंकना या हर समय अपनी आलोचना करना बताता है कि आप स्वयं को प्यार नहीं करतीं। इस तरह की आलोचना करके आप अपनी कमी को ही उजागर नहीं कर रहीं, बल्कि अपने मनोबल को कमजोर कर रही हैं और अपनी सोच में नकारात्मकता को बढ़ावा दे रही हैं। विशेषज्ञ भी मानते हैं कि जब हम खुद की आलोचना करते हैं या हर समय नकारात्मक सोचते हैं, तो हमारेशरीर में तनाव बढ़ाने वाले हार्मोंस का स्राव होता है और आप और ज्यादा तनावग्रस्त हो जाती हैं। पर खुद को प्यार करने का मतलब यह कतई नहीं है कि आप स्वार्थी बन जाएं। यहां तो बात खुद के ख्याल की है। स्वयं के मनोबल को बढ़ाने का यह बेहतर तरीका है। अगर आप चाहती हैं कि लोग आपकी तरफ आकर्षित हों या आपके अस्तित्व को समझें, तो पहले खुद को प्यार करना सीखिए। खुश रहना है तो... जो प्यार आप अपने परिवार को दे रही हैं, बदले में जब उतना ही प्यार नहीं मिलता होगा, तो दुख लगना स्वाभाविक है। पर खुद की अनदेखी तो आप स्वयं कर रही हैं, फिर दूसरे तो करेंगे ही। खुद को खुश रखिए। मन को मारकर हर वक्त दूसरों के लिए करते रहने से एक हीनभावना आ जाती है। जब आप खुश रहेंगी, तभी आप हर रिश्ते में खुशी का रंग भर पाएंगी। खुद पर भरोसा भी है जरूरी खुद पर भरोसा करने का मतलब है, अपने आत्मविश्वास को बढ़ाना। आत्मविश्वास होगा तो गलतियां भी कम होंगी। कोई गलती होती भी है, तो धैर्य रखें और उन गलतियों से सीख लेकर अगली बार बेहतर करने की कोशिश करें। खुद का भरोसा ही है कि एक चींटी अपने वजन से दस गुना भार लेकर अपनी मंजिल की तरफ बढ़ जाती है। क्या है आपकी पहचान खुद से प्यार करने का एक मतलब यह भी है कि आप जैसी भी हैं, उसी रूप में खुद को स्वीकारें। दुनिया में सुंदर लोगों की कमी नहीं है, लेकिन इसका मतलब यह बिल्कुल नहीं है कि आप अपनी तुलना उनसे करें। सुंदरता के मायने केवल शारीरिक सुंदरता ही नहीं होता, इसमें आपकी स्मार्टनेस, जानकारी, सोच वगैरह कई चीजें होती हैं। अपने व्यक्तित्व में संतुलन लाएं। इससे आत्मविश्वास बढ़ता है। किसी को अपना आदर्श जरूर बनाएं, मगर दूसरों की नकल करने की बजाय अपनी एक अलग पहचान बनाएं। खुद को भी कहें ‘गुड मॉर्निंग’ सुबह उठते ही दूसरों से तो ‘गुडमॉर्निंग’ बोलती ही होंगी, पर क्या कभी खुद को ‘गुडमॉर्निंग’ बोला है! ऐसा तो कभी नहीं हुआ होगा। थके हुए मन से दिन की शुरुआत करने का मतलब अपनी ऊर्जा को कम करना है। ऐसे में कुछ नया करने के बारे में कैसे सोच सकती हैं? तो खुद को रिचार्ज इस तरह करें कि सुबह जब आईना देखें तो चेहरे पर मुस्कान लेकर अपने लिए भी ‘गुडमॉर्निंग’ बोलें, मानो आज आपका दिन सबसे अच्छा है। अपने हर दिन को खास बनाइए। स्वाद और सेहत के बीच ऐसे बनाएं संतुलन आपकी खाने-पीने की आदतें जो लोग खुद से प्यार करना जानते हैं, वो शारीरिक और मानसिक बीमारियों से भी दूर रहते हैं। ऐसा इसलिए हो पाता है, क्योंकि वे बेहतर स्वास्थ्य के साथ अपने काम पर ज्यादा ध्यान दे पाते हैं। ये शरीर आप ही का है। इसका ध्यान रखने की जिम्मेदारी भी आपकी है। समय पर, सही और संतुलित खाना जितना जरूरी आपके घर वालों के लिए है, उतना ही जरूरी आपके लिए भी है। बचा-खुचा खा लेना, जब टाइम मिले तब खाना; अपने साथ ऐसा करते हुए आपको सोचना चाहिए कि आपका शरीर कोई कूड़ादान नहीं है, जिसके अंदर कुछ भी डाल दिया जाए। सेहतमंद खाने से समझौता करके खुद को बीमार न बनाएं।

Related Posts you may like

प्रमुख खबरें