Saturday ,23-Mar-19 ,
- 860211211      - padamparag@gmail.com
ताज़ा खबर

विश्व गुरु भारत की संस्कृति और सभ्यता को अपनाने लगा है इंग्लैंड

padamparag.in

सोनीपत, । विश्व गुरु भारत की संस्कृति और सभ्यता को इंग्लैंड अपनाने लगा है। इसके लिए भारत के अध्यापक शिक्षा संस्थानों में भारतीयता को पढ़ाने लग गए हैं। वहां विश्व हिन्दू परिषद की ओर से एक मंदिर में हिन्दी को पढ़ाने की व्यवस्था की गयी है। जहां एक साथ 100 सदस्यों को उस कक्षा में शामिल किया जाता है। इंग्लैंड में यह जिम्मा संभाले हुए हैं हरियाणा की बेटी सोनीपत की प्रवीण रानी। वे वहां पर दो शिक्षण संस्थान चलाती हैं , जिसमें भारत के अलावा दूर देशों के छात्र पढ़ने आते हैं। सोमवार को वे सोनीपत प्रवास के दौरान पत्रकारों से बात कर रही थीं । प्रवीण बताती हैं कि उनकी शादी 8 दिसंबर 2001 में सुनील कुमार के साथ हुई। शादी के बाद एडवांस स्टडी के लिए वह वह अपने भाई के पास दिनेश मलिक के पास इंग्लैंड में 2009 में चली गयीं । उन्होंने पति के साथ चर्चा की और एक शिक्षा संस्थान को 2011 में टेक ओवर कर लिया। इसकी वे प्रबंध निदेशक बनीं | यह शिक्षा संस्थान किंग्स मिड स्कूल लीवरपुर यूके, इग्लैंड में है। वहां बसे भारतीयों के साथ मिलकर एक सामाजिक संस्था का गठन किया, जिसका नाम दिया गया हरियाणा इन यूके एसोसिएशन। वे संगठन की फाउंडर सचिव हैं। इसके साथ ही आज 500 एनआरआई यहाँ से जुड़े हैं। प्रवीण रानी बताती हैं कि इंग्लैंड स्थित हाई कमीशन में 15 अगस्त को भारत का स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है, वहां अब हरियाणवी सांस्कृतिक कार्यक्रम पेश किए जाने लगे हैं जिसे लोगों द्वारा पसंद भी किया गया | उन्होंने वहां पर विश्व हिन्दू परिषद के द्वारा बनाए मंदिर में हिन्दी को सिखाने का जिम्मा लिया। प्रवीण का मानना है कि भारत विश्व के अंदर अपने संदेश को पहुंचाएं, तभी भारत विश्व गुरु कहलाएगा। प्रवीण रानी का कहना है कि विश्व गुरु भारत की शिक्षा पद्धति, जो गुरुकुल पद्धति थी बहुत ही बेहतर थी। हम यदि भारत और इंग्लैंड के बीच में तुलना करें तो कुछ बातें उनकी अच्छी हैं, लेकिन ज्यादातर बातें हैं भारत की अच्छी हैं।

Related Posts you may like

प्रमुख खबरें